Saturday, August 1, 2009

कब तक सहते रहेंगे अपमान..............

भारत के पूर्व रास्ट्रपति कलाम के साथ अमेरिका की कांटिनेंटल एयर लाइंस के द्बारा ली गई तलाशी कोई छोटीमोटी घटना नही है ..... इससे भी दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है अमेरिकी एयर लाइंस ने यह तलाशी भारतीय हवाई अड्डेमें तब ली जब कलाम न्यू जर्सी की फ्लाईट पकड़ने हवाई अड्डे में पहुचे .... चूकि यह घटना भारतीय हवाई अड्डेपर घटित हुई इस कारण इसने आम आदमी का दिल कचोट दिया है॥कम से कम विदेशी एयर लाइंस द्बाराभारतीय प्रोटोकोल के नियमो की अवहेलना इस कदर नही की जानी चाहिए थी ... चौकाने वाली बात तो यह है यह पूरा मामला तीन महीनों से दबा रहा ... हमारी सरकार इस वाकये पर मूकदर्शक बनी रही ॥उसने अमेरिकी एयरलाइंस पर कोई कार्यवाही नही की ॥ प्रफुल्ल पटेल भी इस मसले पर चुप्पी साधे रहे.....

मीडिया में मामला प्रकाश में आने के बाद पटेल को सफाई देनी पड़ी॥ वैसे ,यह घटना भारत से जुड़ी है अतः इस बार बवाल मचा॥ फिर मामला पूर्व महामहिम का था... अरसे पहले हमारे कई नेता इस तरह की जांच प्रक्रियाओं से गुजर चुके है॥पूर्व रक्षा मंत्री फर्नांडीज की एक बार अमेरिका में इस तरह की तलाशी ली जा चुकी है॥ यही नही अपने सोमनाथ दा ने तो एक बार इसके चलते अपना विदेशी दौरा ही रद्द कर दिया था॥इस बार अमेरिका ने कलाम की तलाशी भारत में लेकर पूरे मुल्क को बदनाम करने की कोई कसर नही छोडी...

भारत में हमारे अधिकारियो के बीच इस तरह एक पूर्व रास्ट्रपति के साथ भद्दा व्यवहार नही किया जाना चाहिए था॥साथ ही अमेरिकी विमान कंपनी को यह मालूम होना चाहिए भारत में अमेरिका जैसे कानून नही चला करते है..वैसे मामला मीडिया में आने के बाद एयर लाइंस द्बारा माफ़ी मांग ली गई है लेकिन माफ़ी से काम नही चलेगा..वह तो कलाम का व्यक्तित्व इतना शालीन है की इतनी बेइज्जती होने के बाद भी इस मसले पर उन्होंने अपना मुह नही खोला है ...आख़िर हम इस अपमान को कब तक सहन करते रहेंगे??अमेरिका को किसी दूसरे देश को सिक्यूरिटीका पाठ पदाने की कोई जरुरत नही है ...

बेहतर होगा वह अपने देश में अपने कानूनों के हिसाब से चले ....पूराविश्व उसके अपने कानूनों से नही चलेगा.... हर देश का अपना ख़ुद का संविधान होता है ॥ बाकायदा अलग नियमकानून भी होते है...............इसी तर्ज पर अगर हम किसी अमेरिकी नेता की तलाशी उसके भारतीय दौरे पर लेनेलगे तो बखेडा ही मच जाएगा......

19 comments:

महफूज़ अली said...

baat to sahi kah rahe hain aap........

परमजीत बाली said...

सही बात है....

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

अभी तो ये अँगड़ाई है आगे बहुत पिटाई है।
देखिये क्या-क्या न हो?

चन्दन कुमार said...

iski to hame aadat dal leni chahiye

संजीव गौतम said...

बहुत सही मुद्दा उठाया है आपने इस पर बहस होनी चाहिये. हम अपने गौरव की रक्षा क्यो6 नहीं कर पाते?

दिगम्बर नासवा said...

आप सच कह रहे हैं............ मीडिया में आने के बाद मंत्री साहब की आँख खुली.............. इस बात पर भी बहस होनी चाहिए ऐसा क्यों हुवा..........ये हमारे नेताओं का चरित्र उजागर करता है.......... और ऐसी एयर लाइंस को बंद कर देना चाहिए भारत में......

nitesh pratihast said...

harsh bhai article bahut acha likha hai.tumhari lekhan shaili bahut achi hai.lekin sports par bhi article likha karo.


nitesh pratihast
delhi university

M.A.Sharma "सेहर" said...

well said...!!

meetu said...

harshji bahut sahi post likhi hai aapne aakhir hum bhartiyo ka apmaan kab tak hota rahega amerika ke dwaara?

somadri said...

harsh ji , apane bhi din aayenge aur hum america ko chun chun kar sabak sikhayenge...
basharte apane neta jaagen aur janta bhi..
ek achche article ke liye badhai

http://som-ras.blogspot.com

ज्योति सिंह said...

digamber ji baton se main bhi sahamat hoon .shat-pratishat sach hai .

darshan said...

harsh ji yah sab kar amerika ne bharat ka aapmaan kiya hai..................

Prem Farrukhabadi said...

aapki baat se sahmat hoon bhai.

hem pandey said...

हमारी सहिष्णुता हमारी कायरता मानी जाने लगी है.

Babli said...

आपने बिल्कुल सही फ़रमाया और मैं आपकी बातों से पुरी तरह से सहमत हूँ! आपने एकदम सही मुद्दा उठाया!

sandhyagupta said...

Aapki baat se sahmat hoon.Halanki mera manna hai ki dusre aapko utna hi samman dete hain jitna ki aap khud ko dete hain.Agar aap apna hi samman na karen to...

रंजना said...

sahi kaha aapne.....kya kaha jaay apne desh ke netaon par sharm aati hai,jo pakistaan tak ke numaindon ke liye palak panvade bichha diya karti hai aur yadi amerika se koi aa jaaye tab to poore desh me deewalee manane lagti hai aur is deshon ke kartooton par uff karne me bhi jhijhakti hai...

ज्योति सिंह said...

uttam vichar or sach baat hai .jai hind .kab tak sahange ....

prashant said...

Aapli lekhani me dam hai.. mujhe umid hai ki es artical ko padhkar america ke prati asankh logo ke soche me badlao aayega... sath hi aap apne karjo me lage rahe .....