मंगलवार, 17 जुलाई 2012

अन्ना , अनशन और मीडिया ...........





उदारीकरण
 के बाद देश  में जिस तेजी से कारपोरेटी बिसात बिछी है उसने भ्रष्टाचार की गंगा बहाने में कोई  कसर नहीं छोडी है  इस  लूट के खिलाफ  समय समय पर आवाजें उठती रही है लेकिन आज तक कोई सकारात्मक पहल इस दिशा  में नहीं हो पाई है  इसी दौर में आम  आदमी के सरोकार हाशिए पर चले गये है और देश  में भ्रष्टाचार के खिलाफ  बन रहे माहौल के बीच इन सवालों को बल मिल रहा है क्या आज के दौर में कोई ’प्रतीक पुरूष’ है जो इस दिशा में बड़ा प्रयास कर सकता है 


भ्रष्टाचार विरोधी जंग में अहिंसावादी आंदोलन के प्रतीक पुरूष बने अन्ना हजारे ने यही जोखिम उठाकर पिछले साल अगस्त में सरकार के होश  उड़ा दिये  अन्ना हजारे का आंदोलन 2011 मे  भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक नई सुबह लेकर आया  अपनी दृढ इच्छाशक्ति और सत्याग्रह के आगे सरकार को उन्होंने घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया  स्वतंत्रता के बाद पूरे देश  में हुआ अन्ना का आंदोलन कई मायनों  जनता और राजनेताओं को सबक दे गया  अपने को वीआईपी सरीखा व्यक्ति और शासन की राह आसान समझने वाले राजनेताओं के लिए एक कडी चेतावनी लेकर आया तो वहीं जनता को भी पहली बार इस ताकत का अनुभव हुआ कि जनता की ताकत के आगे ‘तंत्र’ एक ना एक दिन नतमस्तक हो सकता है 


       महाराष्ट्र के रालेगणसिद्धि गांव से निकले अन्ना जिस समय अपनी एक आवाज के साथ पूरे देश  को एक सूत्र में बांधते नजर आते है तो उसमें राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों की चमक दिखती है साथ ही पिछले 64 सालों से व्यवस्था से त्रस्त आम आदमी का अक्स भी इसमें देखा जा सकता है  विकास  की आस में खड़े आम आदमी का भरोसा जब भ्रष्ट तंत्र से उठने लगे तो ऐसे में वह अन्ना सरीखे गांधीवादी तंत्र के आगे नतमस्तक हो जाता है और अन्ना को तारणहार के रूप में ताकता नजर आता है  जनलोकपाल के मुद्दे पर अपनी लड़ाई को जनता के बीच ले जाकर अन्ना ने पिछले साल पूरे देश  को एक मंच पर लाकर खड़ा कर दिया  जिस तरीके से लोगों का कारवां बढ चढकर अन्ना के काफिले के साथ शहर दर शहर जुड़ा उसने पहली बार राजनेताओं के लिए खतरे की घंटी बजा दी और लोकतंत्र में लोक के महत्व को बखूबी साबित कर दिखाया 


       दरअसल किसी भी आंदोलन के पीछे  सामाजिकआर्थिकराजनीतिक परिस्थिति जिम्मेदार रहती है  अन्ना के आंदोलन के साथ भी यही देखने को मिला  हमारी आम जिन्दगी में रीतिरिवाजों की तरह शामिल हो चुके भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों में आक्रोश  तो पहले से मौजूद था लेकिन लोग इसे व्यक्त कर पाने की जहमत नहीं उठा पा रहे थे  2 जी घोटालाआदर्श  सोसाइटी घोटालाकामनवेल्थ घोटालाकर्नाटक की खदानों में घोटाला कुछ ऐसे मुद्दे थे जिसने अन्ना के आंदोलन का रास्ता तैयार किया  2010 में अरब  देशों में उठी चिंगारी का असर परोक्ष रूप में भारत मे  भी देखने को मिला  2010 में अफ्रीका  के छोटे से देश  ट्यूनीशिया से उठी चिंगारी ने  पूरे अरब जगत मे सुनामी ला  दी  मधी पूर्व के जिन देशों  मे  लोकतंत्र की बयार बही वहां क्रान्ति का सीधा मतलब सैनिक तख्तापलट रहा  2010 - 11 के साल को उथल पुथल के साल के रूप में हम  देख सकते है  इसी दौर में ट्यूनीशिया के शासक  को जहां देश  छोडना पडा वहीं  मिस्र  में एकछत्र राज कर रहे मुबारक की सत्ता का अंत भी इसी दौर मे  हुआ  वहीं यमनजॉर्डन , अल्जीरिया , सीरिया  , लीबिया भी इसकी  लपटों में  गये  


अरब देशों  के इन जनान्दोलनों में युवाओं ने संगठित होकर भागीदारी की और संचार माध्यमों से अपनी सरकारों की मुश्किलों को बढाने का काम किया  इस माहौल ने कहीं ना कहीं भारत के लोगों को भी प्रेरित  किया और वह भ्रष्टाचार के खिलाफ एकजुट होकर खड़े हुए  यह अलग बात थी कि भारत में लोगों की लड़ाई जनलोकपाल बिल को लाने की थी ना कि अरब देशों  की तरह तानाशाही के अंत जैसी 


  
अप्रैल  2011 को जंतर मंतर पर अन्ना के धरने की शुरूवात और 4 जून 2011 की रात योगगुरु स्वामी रामदेव  पर दिल्ली पुलिस की कारवाइयों ने आम आदमी को अपना गुस्सा बाहर निकालने का एक मौका आंदोलन  के जरिए दे दिया  अन्ना का आंदोलन ठीक ऐसे समय में हुआ जब लगातार एक  के बाद एक घोटालों से आम आदमी खुद को असुरक्षित और परेशान महसूस कर रहा था  अन्ना ने आम जनता के उबाल को एक तरह से प्लेटफार्म देने का काम किया  इस आंदोलन से अन्ना ने लोगों का दिल जीत लिया  अन्ना लोगों को यह संदेश  दे पाने में कामयाब हुए कि अगर भ्रष्टाचार रूपी रावण का संहार होगा तो घर-घर में खुशहाली आएगी  इसी के चलते समाज के  हर तबके ने ‘अन्ना टोपी’ पहनकर अगर ‘ मी अन्ना आहे ’ के नारे लगाए तो उसके केन्द्र में भ्रष्टाचार का घुन था जो हमें उदारीकरण के बाद से लगातार  खाए  जा रहा था 


       अन्ना के अपनी जनलोकपाल की लडाई को उसी रामलीला मैदान से शुरू किया जहां कभी जेपी ने सत्ता को ‘सिंहासन खाली करो कि जनता आती है’ गाकर चुनौती दी थी  इसी मैदान पर देश  की पूर्व प्रधानमंत्री स्वइन्दिरा  गांधी  ने पाक को 1972 में हराने के  जश्न  में रैली की थी  यही नहीं देश  की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी भाजपा ने अयोध्या आंदोलन में इसी मैदान से अपनी हुंकार भरी थी  अन्ना ने भी इसी रामलीला मैदान से भ्रष्टाचार के खिलाफ मशाल जलाकर अतीत की सुनहरी यादों को पिछले साल ताजा कर दिया 



       एक लोकतांत्रिक देश  में विधायिकाकार्यपालिकान्यायपालिका के साथ मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका होती है  उसका कार्य जनता को जागरूक करनाशिक्षित करना ही नहीं वरन महत्वपूर्ण मसलों पर जनमत का निर्माण भी करना है  चूंकि हम एक लोकतांत्रिक प्रणाली  में रह रहे हैं  अतः यहां भी मीडिया की भूमिका इसी के आसरे चलती है  जब से न्यूज चैनलों की शुरूवात इस देश  में हुई है तब से किसी भी घटना की जीवंत तस्वीरें दुनिया के किसी भी कोने में देखी जा सकती है  टीवी चैनलों के माध्यम का आज तक किसी बड़े जनान्दोलन में उपयोग नहीं हुआ जैसा अन्ना आंदोलन में देखने को मिला  खासतौर  से अगस्त में हुए अन्ना के अनशन के 288 घंटे खबरिया चैनलों ने जिस तरीके से कवर किये उसकी मिसाल बहुत कम देखने को मिलती  है  इस दौरान हिन्दी न्यूज चैनलों के साथ ही अंग्रेजी न्यूज चैनलों का वातावरण अन्नामय था  ऐसा पहली बार हुआ जब लोगों ने अन्ना आंदोलन के जरिए खुद को रामलीला मैदान से सीधे जुड़ा महसूस किया  इसका प्रभाव शहरों से कस्बों तक में दिखाई दिया जिसकी परिणति व्यापक जनसमर्थन से हुई   इसका बड़ा कारण अन्ना की पाकसाफ ईमानदारी छवि भी रही जिसके पीछे हर तबके की जनता साथ खड़ी दिखी 


 न्यूज चैनलों ने भी टीआरपी के  चलते अन्ना की अगस्त क्रान्ति को खूब भुनाया  अन्ना के आंदोलन से पहले जेपी और वीपी के दौर में भी भ्रष्टाचार और महंगाई को केन्द्र बनाया गया था जो आगे चलकर सत्ता परिवर्तन का कारण भी बना  लेकिन जेपीवीपी के दौर में भ्रष्टाचार व्यापक नहीं था और इलेक्ट्रानिक मीडिया जैसी कोई चीज नहीं थी   राजीव गांधी के दौर मे  “बोफोर्स ” का जिन्न कांग्रेस की लुटिया डुबो गया  वीपी ने देश  भर  में रैली निकालकर इसे बड़ा मुद्दा बनाया जिसके चलते  कांग्रेस के हाथ से सत्ता फिर फिसल गई  उस  दौर में संचार साधन आज जितने पर्याप्त नहीं थे  आज इंटरनेट की दस्तक ने पूरा परिदृश्य  बदल दिया है  सोशल नेटवर्किंग , बेबलाग की दुनिया आज सभी के लिए खुली है जहां हर किसी को खुलकर अपने विचारों को कहने की आजादी है  अन्ना के आंदोलन की हर बदलती घटना को न्यूज चैनलों ने सीधे कवर किया जिससे  जनता  पल पल की घटनाओ से सीधे रूबरू हुई  पूरे  288 घंटे चैनलों ने अन्ना से जुड़ी हर छोटी खबर को ब्रेकिंग न्यूज बनाने में देरी  नहीं की  रामलीला मैदान में खबरों के नये आयाम जुडते जा रहे थे और चैनल अपनी पूरी उर्जा अन्ना को दिखाने में कवर करते जा रहे थे  जिस चैनल के पास जितना संसाधन था उसने सब रामलीला मैदान में लगा दिया  एंकर रामलीला मैदान में अन्ना के साथ बैठा था तो विशेषज्ञों को  स्टूडियो  में बैठाकर सवालात किये जाते थे  भारतीय टेलीविजन चैनलों के इतिहास में यह नया  ट्रेंड पहली बार देखने को मिला जब सभी समाचार चैनलो  ने अपनी स्क्रीन को 3 से 4 भागों में बांटा और बिना ब्रेक का लाइव  रामलीला मैदान से दिखाना शुरू कर दिया  पिछले साल अगस्त में  चले  अन्ना के आंदोलन  मे सभी समाचार चैनलो ने सकारात्मक  भूमिका  निभाई शायद तभी सरकार को संसद में बहस कराने को मजबूर होना पडा  27 अगस्त 2011 की घटना ने एक बात तो साफ कर दी कि अगर मीडिया चाहे तो किसी भी मुद्दे को बड़ा कैनवास दे सकता है और उसे पब्लिक का ऐजेण्डा बना सकता है 


       अन्ना के आंदोलन में मीडिया की एजेण्डा सेटिंग अवधारणा सटीक बैठती है   यह  अवधारणा कहती है कि मीडिया द्वारा मुद्दों का निर्माण किया जाता है  वह लोगों को बताता है कि कौन सा मुद्दा महत्वपूर्ण है और कौन सा गौण  इसमें मीडिया कुछ मुद्दों को ज्यादा महत्व देकर शेष मुद्दों की उपेक्षा करता है  इससे जनमत प्रभावित होता है और लोगों को मीडिया के माध्यम से यह पता चलता है कि कौन से मुद्दे प्रमुख है तथा उनका प्राथमिकता क्रम क्या है  अन्ना के आंदोलन से पहले भ्रष्टाचार इतना बड़ा मुद्दा नहीं था लेकिन भ्रष्टाचार के आगे महंगाई , आर्थिक मंदीबेरोजगारीनक्सलवाद जैसे कई मुद्दे एकाएक दब गये और केन्द्र में भ्रष्टाचार  गया 


       अन्ना की अगस्त क्रान्ति के बाद कैबिनेट ने लोकपाल और लोकायुक्त विधेयक 2011 को 20 दिसम्बर 2011 को पारित किया  विधेयक लोकसभा में 28 दिसम्बर 2011 को पारित किया गया परन्तु विधेयक संवैधानिक दर्जा प्राप्त नहीं कर सका क्योंकि दो तिहाई बहुमत के अभाव में विधेयक को संवैधानिक दर्जा देने सम्बन्धी संविधान संशोधन विधेयक पारित  हो सका  लोकपाल  लोकायुक्त विधेयक 2011 शीतकालीन सत्र समाप्त होने के कारण राज्यसभा में पारित नहीं हो सका 


       अन्ना के साथ किये गये वादे से केन्द्र सरकार मुकर गई और  इसके खिलाफ अन्ना ने मुम्बई के  आजाद  मैदान में फिर से अनशन शुरू किया लेकिन यह अनशन ज्यादा नहीं चल पाया  अन्ना के रणनीतिकारों ने मुम्बई को अनशन  स्थल के रूप में गलत चुना  साथ ही खराब स्वास्थ कारणों के चलते अन्ना आंदोलन में उतार का दौर  गया  आजाद मैदान में मीडिया से भी अन्ना को सहानुभूति नहीं मिल पाई  इसका एक कारण टीम अन्ना की कोर कमेटी का लगातार भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरना भी रहा  


टीम अन्ना की एक अहम सदस्य किरण बेदी  पर  एक चौथाई किराया देकर हवाई यात्रा करने को लेकर बिलों में गडबड़ी के आरोप जहां लगे वहीं शांति  भूषण पर इलाहाबाद से खबर आई कि एक पुराने मकान को अपने नाम कराने में बडे पैमाने पर उन्होंने राजस्व की चोरी की है  वहीं भ्रष्टाचार के मामलों में अरविंद  केजरीवाल भी फंस गये  नौकरी के दौरान उन पर 9 लाख रूपये बकाया होने के आरोपो से उनकी  खूब भद्द पिटी  हालांकि उन्होने यह धनराशि  प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर लौटा दी लेकिन इसके बाद भी उनकी मुश्किले कम नहीं हुई  दिल्ली में पिछले अनशन के दौरान लोगों से ली गई ‘धनराशि को  अरविंद ने अनशन स्थल की व्यवस्था  के बजाए उसे अपनी ‘परिवर्तन’ संस्था के फंड में जमा कर दिया  आंदोलन के दौरान  छुट्टी  लेकर  रामलीला मैदान जाने और पूरा वेतन लेने के  आरोपों के साथ ही कुमार विश्वास  की भी खासी किरकिरी हुई  इसके चलते अन्ना आंदोलन की डगर डगमग लगने लगी 


       मुम्बई में अन्ना के  ‘ फ्लाप शो ’ के बाद मीडिया ने अन्ना आंदोलन के प्रति ‘एन्टी’ रूख अपना लिया  दूसरा पांच राज्यों के चुनावों में अन्ना के  जानेबीमार हो  जाने से यह आंदोलन भटकाव की दिशा  में चला गया  
राज्यों में चुनाव प्रचार के सम्बन्ध में टीम अन्ना की खासी ना नुकुर हुई जिससे लोगों के बीच अन्ना आंदोलन की साख  वैसी नहीं पाई जैसी अगस्त में दिल्ली के रामलीला मैदान मे थी  5 राज्यों के चुनाव निपटने के बाद अन्ना जब स्वस्थ होकर एक बार फिर जनलोकपाल की मशाल को थामना चाहते हैं तो टीम अन्ना के सदस्य सांसदो को भ्रष्टाचारी होने के मसले पर कोसते है जो मुख्य मुद्दे जनलोकपाल से ध्यान भटका रहा है   इस समय टीम अन्ना की कोशिश  जनता के बीच जनलोकपाल की लडाई ले जाने की होनी चाहिए 


        अगस्त क्रान्ति के बाद टीम अन्ना मीडिया का समर्थन सही से नहीं जुटा पाई  जेपी आंदोलन में जनता बढ चढकर आगे आई  अन्ना को भी चाहिए था वह पूरे देश  में जनलोकपाल की अलख  जगाने खुद निकलें लेकिन वह ऐसा नहीं कर पाये 1987 में वीपी सिंह ने जब आंदोलन छेडा था तो सारा मीडिया उनका विरोधी था लेकिन कुछ समय बाद सारा मीडिया वीपी की मुट्ठी में  गया क्योंकि वह देश  भर की यात्रा पर निकले और इसमें जनता को उन्होंने साथ लिया  लोहिया कहा करते थे जनता के साथ संवाद की प्रक्रिया जारी रखनी चाहिए  बिना जन के संसद अधूरी है  अन्ना भी अगर ऐसी कोशिश  करते तो शायद अभी जनलोकपाल आंदोलन का उत्साह बना रहता लेकिन ऐसा हो नहीं पाया  आंदोलनों का  कोई शास्त्र नहीं होता  मीडिया कोई  आंदोलन खड़ा भी नहीं करता  यह स्वतः स्फृर्त होते हैं जहां लीडर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है  लेकिन अगर लीडर अपने हिसाब से मुद्दे गढ़ने लगे और टीम के सदस्य अपनी ढपली अपना राग अपनाते रहे तो कोई आंदोलन लम्बा नहीं चल सकता   आंदोलनों को जनता की मांगो पर चलना ही पड़ता है 


 टीम अन्ना साफ मानना है कि वह क्रान्ति नहीं लाना चाहती  साथ ही उसका मकसद सत्ता का हिस्सा बनना भी नहीं हैं अतः ऐसे में उसे समझना होगा कि सिस्टम सुधारने की प्रक्रिया निचले स्तर से होनी चाहिए  सांसदों को निशाना  बनाने से कुछ नहीं होने वाला  सभी जानते है कि लोकतंत्र के हमारे मंदिर में  सांसद कितने दूध से धुले हैं ?  ऐसा करने के बजाय मुख्य विषय  जनलोकपाल  को  लोगों के बीच ले जाने की  सख्त जरूरत है   चूंकि  जनलोकपाल की बिसात में ’जन’ की  बडी भूमिका है और सांसदों के चूने जाने का रास्ता भी इसी ‘जन’ के आगे  से  ही जाता है  लिहाजा अब जनलोकपाल की लडाई को जनता के बीच सीधे मैदान मे  ले जाने की जरूरत है ।अन्ना अब इस बात को  बखूबी समझ रहे हैं  शायद इसलिए उन्होंने रामदेव के साथ इस लड़ाई को बडे़ स्तर पर लड़ने का फैसला कर लिया है 
                                                  
                                       अन्ना ने अगस्त 2011 में उस आम आदमी का साथ पाने में सफलता हासिल की जो हमेशा  शातिर सत्ता की ताकत के आगे इस दौर में छला जाता रहा  है  आम आदमी भ्रष्टाचार से निजात पाना चाहता था तभी उसने बढ चढकर रामलीला मैदान में अपनी भागीदारी की  वहीं यूपीए 2 की प्रवृति जिस तरीके से भ्रष्टाचारियों को सजा दिलाने के बजाए उसे बचाने की रही उसके चलते लोगों की अन्ना से उम्मीदे दुगनी बढ़ गई  हैं  जेपी ने 1974 में छात्र  आंदोलन की शुरूवात की थी  बिहार में जन्मे इस आंदोलन  ने पूरे देश  में बदलाव का माहौल तैयार कर दिया  


25 जून 1975 की अर्धरात्रि जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी  ने देश  में आपातकाल लगाया तो जेपी ने सेना और पुलिस को असंवैधानिक आदेश  ना मानने की बात कह डाली और सम्पूर्ण क्रान्ति का नारा दे डाला था  उस दौर में पूरे उत्तर भारत में आंदोलन अपने  चरम पर था  आपातकाल की घोषणा ने उसमें तड़का लगा दिया  उसके बाद अस्सी और नब्बे के दशक में देश  में मंडलकमंडल का दौर देखने को मिला जिसका प्रभाव भी व्यापक था लेकिन यह आंदोलन कहीं ना कहीं जाति और धर्म से जुड़े रहे अतः इसकी गाडी लम्बी नहीं चल सकी  लेकिन अन्ना के आंदोलन को हम जेपी के  आंदोलन के बाद  सबसे बडा आंदोलन मान सकते है  जनलोकपाल की लड़ाई केवल अन्ना की लड़ाई नहीं है  हर देशवासी अपने दैनिक इस भ्रष्टाचार से निजात पाना चाहता है  अन्ना ने आम आदमी के दर्द को हवा देने का काम सही मायनों में किया है  अन्ना तो सिर्फ एक प्रतीक है उनका आभामंडल करोड़ों लोगों ने बनाया है जो अन्ना में सिस्टम सुधारने की उम्मीद देखते हैं 
       
अन्ना को रामदेव से पहले कडा ऐतराज था  टीम अन्ना भी बार-बार रामदेव को साथ  लेने की बात दोहराती रहती थी शायद तभी जंतर –मंतर से लेकर आजाद मैदान में रामदेव अन्ना कदमताल नहीं कर पाये  लेकिन अब दोनों के निशाने पर कांग्रेस है  रामदेव ने काले धन की मांग को बडे स्तर पर उठाया है और इसके खिलाफ पूरे देश  में बड़ी कैम्पेन चलाई है तो वहीं अन्ना ने जनलोकपाल के साथ कालेधन को भी अपने प्रमुख ऐजेण्डे में रखा है जिसमे  चुनाव सुधार से लेकर किसानों से जुडे मुद्दे शामिल हैं  अन्ना हजारे के दामन पर किसी प्रकार का दाग नहीं है तो वहीं रामदेव का पंतजलि योगपीठ कांग्रेस निशाने पर है  1100 करोड़ रू का आर्थिक साम्राज्य खड़ा करने वाले रामदेव पर विदेशी  मुद्रा अधीनियम के तहत जहां यूपीए  2 शिकंजा कस रही है वहीं आचार्य बालकृष्ण की नागरिकता संदेह के घेरे में है  ऐसे में रामदेव के सामने खुद को पाक - साफ करने की चुनौती जहां खड़ी है वहीं अरबों  रूपये वापस लाने के काले धन के संकल्प को भी उन्हें  अपने करोड़ो अनुयायियों के जरिए पूरा करना है  रामदेव की सबसे बड़ी  ताकत यही सबसे बड़े भक्त है तो वहीं अन्ना की सबसे बड़ी कमजोरी उनके संगठानिक ढांचे के कमजोर होने की रही है  ऐसे में दोनों की जुगलबंदी अगर 16 वीं लोकसभा में यूपीए को  मटियामेट कर दे तो कोई आश्चर्य  नहीं  घोटालों के सबसे ज्यादा दाग कांग्रेस के दामन पर ही लगेंगे क्योंकि वहीं इस समय   यूपीए - 2 को लीड कर रही है और जहां लीडर गडबड़ हो वहां पार्टी के अर्श  से फर्श  पर आने में देर नहीं लगती 
       

भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना की लडाई ने कई मोर्चो  पर सरकार को परेशान किया है  इन सबसे बौखलाई  केन्द्र सरकार टीम अन्ना को भ्रष्ट साबित कर गडे मुर्दे उखाडने  की कोशिश  कर रही है इससे अन्ना और उनके समर्थक विचलित जरूर हुए हैं  लेकिन अन्ना बैखौफ अंदाज में मैदान में अभी भी डटे है  वह भी सादगी भरे अंदाज में   शायद यही  इस फकीर की सबसे बड़ी ताकत है और मैं  भी उनकी इस अदा का कायल हूँ 





कोई टिप्पणी नहीं: