Monday, January 19, 2015

सुनंदा मामले में बढ़ सकती है थरूर की मुश्किलें



शशि थरूर और विवादों का लगता है चोली दामन का साथ है मनमोहन के दौर में भी वह सुर्खियों में रहे और अब मोदी सरकार के दौर में भी कमोवेश यही हाल है जब से सुनंदा पुष्कर के साथ उनका नाम जुडा उसी समय से दोनों के चर्चे मीडिया की सुर्खियाँ बनी और अब सुनंदा की मौत के तकरीबन एक बरस बाद भी शशि थरूर की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं बीते बरस लीला पैलेस होटल के कमरा नंबर 345 में सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में दिल्ली पुलिस जिस तरह पुराने पन्ने खोल रही है उससे अब जांच का दायरा थरूर तक पहुँचने से इस पूरे मसले का  सच  सामने  आने के अनुमान लगाये जा रहे हैं और कल दिल्ली में सुनंदा मामले में दिल्ली पुलिस ने वसंत विहार थाने में  पूछताछ  जिस अंदाज में शुरू की है उसने इस बात को भी साफ़ किया है आने वाले दिनों में थरूर की इस मामले  मे मुश्किलें बढ़ सकती  हैं  

  एस आई टी  इस मामले की जांच जल्द पूरा करने के मूड में दिखाई दे रही है ताकि इसे अंजाम तक पहुंचाया जा सके |  दिल्ली पुलिस ने सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में गत एक जनवरी को अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया था। पुलिस ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की रिपोर्ट के आधार पर आईपीसी की धारा 302 के तहत यह  मामला दर्ज किया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि सुनंदा पुष्कर की मौत जहर से हुई थी। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन भी  किया है लिहाजा पुलिस के लिए इस मामले में प्राथमिकी दर्ज करना जरूरी था ताकि सुनंदा के विसरा नमूने को जांच के लिए विदेश भेजा जा सके। इस मामले में विशेष जांच दल  पहले ही कई लोगों से पूछताछ कर चुका है लिहाजा  थरूर के पक्ष को भी जानना जरुरी हो गया था |   

 दिल्ली पुलिस जांच में इस बात को सामने ला रही है कि क्या सुनंदा को मारने के पीछे कहीं  कोई गहरी साजिश तो नहीं रची गयी सुनंदा की मौत के बात बीते बरस ही एम्स की फोरेंसिक रिपोर्ट में जिस तरह सुनंदा की मौत की गुत्थी को ड्रग पोइजनिंग से जोड़ा गया उसने कई सवालों को खड़ा किया हालाँकि  एम्स के एक्सपर्टो की टीम ने इस बात को भी कहा सुनंदा के शरीर पर निशान मिलने से यह मौत एक पहेली बन गयी है |  इस मामले में दिल्ली पुलिस ने भी अब इस बात को कहा है सुनंदा ने आत्महत्या नहीं की है उनको जहर देकर मारने की साजिश की गयी थी शायद यही वजह है पुलिस ने इस मामले में अज्ञात आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया है इस मामले की जांच का दायरा जैसे जैसे आगे बढ़ रहा है वैसे वैसे इस बात के पुख्ता प्रमाण मिल रहे हैं सुनंदा मामले पर एक बड़ी सजिश रची गयी थी हाल ही में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी के बयानों ने भी  थरूर पर सवाल उठाये है उन्होंने अपने ट्विट में कहा है सुनंदा के शरीर में कई जगह पर गहरे जख्म थे जो यह साबित करते हैं उनकी मृत्यु दवाओं के ओवरडोज से नहीं बल्कि जहर खिलाने से ही हुई इस पूरे में जांच होने के बाद असल सच सभी के सामने आ पायेगा लेकिन शशि और सुनंदा में तकरार भी इस मौत की बड़ी वजह बताई जा रही है |

सुब्रमण्यम स्वामी का बीते दिनों आया एक  उलझाने वाला बयान यह भी है कि यह आत्महत्या नहीं मृत्यु का मामला है |  सुब्रमण्यम के इन बयानों से जांच के लंबा खींचने का संकेत मिल रहा है। उनका यह भी कहना कि पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार का संबंध आईएसआई है और उनका संबंध दाऊद के डी कंपनी से भी है। वजह चाहे जो भी हो लेकिन सुनंदा की मौत को गहरी प्लानिग से अंजाम दिया गया सुनंदा कोच्ची आई पी एल टीम की मालकिन भी थी और क्रिकेट के मैच फिक्सिंग आई पी एल से अगर इस मेल को जोडें तो जेहन में दुबई की तस्वीर उभरती है जहाँ सट्टेबाजी में दाउद का नाम जेहन में उभरता है बहुत संभव है सुनंदा इस मामले  के कई राजों का पर्दाफाश करना चाह रही हों जिसके चलते उन्हें किसी ने रास्ते से हटाने की पूरी प्लानिंग की 

 पुलिस को दिए गए अपने बयान में थरूर ने शुरुवात में यह कहा उनकी और सुनंदा की जिन्दगी खुशहाल चल रही थी और कुछ मामलो को लेकर उनमे तकरार भी हुई थी ध्यान दें तो बीते बरस जनवरी में ही थरूर और सुनंदा की जिन्दगी को बुरी नजर उस समय लग गयी जब ट्विटर पर थरूर के अकाउंट से पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार को दिए गए कुछ संदेश सबके सामने आये जिनसे थरूर और तरार के बीच नई रिलेशनशिप होने के कयास लगाए जाने लगे जिसके बाद थरूर हरकत में आये और उन्होंने ट्वीट से यह कहा उनका अकाउंट किसी ने हैक कर लिया है इसी के बाद सुनंदा अवसाद में आ गयी और खुद सुनंदा ने यह ट्वीट किया वह शशि से बात करना बंद कर दें इसी दौर में उन्होंने ट्वीट कर कहा था जब सुनंदा इलाज के लिए विदेश गयी तो मेहर ने उनके पति थरूर का पीछा किया था और उनकी शादी तोड़ने की कोशिश की।

यही नहीं सुनंदा ने एक साक्षात्कार में कहा कि इस पूरी गतिविधि को वह बर्दाश्त  नहीं कर सकती। इस ट्वीटरबाजी के बाद शशि थरूर और सुनंदा पुष्कर दोनों ने कहा कि वे ठीक-ठाक और खुश हैं। लेकिन 18 जनवरी की रात अचानक दिल्ली स्थित एक पंच सितारा होटल में सुनंदा की लाश मिली। इसके बाद यह घटना रहस्यमय मौत में तब्दील हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के जारी होने के बाद यह रहस्य और गहरा हो गया। शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक शव पर जख्म के निशान मिले और एम्स ने भी बाद में इस बात को कबूल किया सुनंद की पोस्ट मार्टम रिपोर्ट बदलने का दबाव डाला गया जिसके बाद से यह हाई प्रोफाइल मामला बन गया |  सुनंदा के करीबियो और थरूर के स्टाफ  से जहाँ  पूछताछ हो चुकी है तों वहीँ थरूर के निजी सहायक भी अपना बयान पुलिस को दे चुके हैं |  इस रहस्यमयी मौत की जांच अब जैसे आगे बढ़ रही है वैसे  शशि थरूर के लिए भी  मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं।


एसआईटी जांच का गठन होने के बाद सुनंदा की मौत को लेकर कई सवाल है। उनकी हत्या हुई थी या उन्होंने खुद आत्म हत्या की। अगर आत्म हत्या की  तो उसका संबंध मेहर तरार से तो नहीं। मेहर तरार से शशि थरुर की  ट्वीट पर बातचीत और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सुनंदा के शरीर पर चोट के निशान कई संदेह छोड़ते हैं। वहीँ एस आई टी का  यह भी मानना है  मौत से पहले दोनों जब कोच्ची से दोनों  लौट रहे थे तो विमान में दोनों के बीच काफी कहा सुनी भी हुई | दोनों के बीच यह लड़ाई एयर  इंडिया के विमान में हुई | वही सुनंदा थरूर की लड़ाई  के समय एक दोस्त ने किसी  डॉक्टर को काल लगाई थी | फ़ोन काल होने से इस मामले की तह तक पहुचने की गुत्थी इतनी आसान भी नहीं लग रही क्युकि शुरुवाती सुराग से किसी भी नतीजे तक पहुँचना  मुश्किल लग रहा है |    एस आई टी  जब तक इन सवालों का जवाब  और सच सामने लाने में कामयाब नहीं हो पाती  तब तक इस मामले  की निष्पक्ष जांच की उम्मीद कम ही दिख रही है 

No comments: