सोमवार, 3 मई 2010

"शिव" जी जागिये...आपके राज में हो रही है गौ हत्याए........



मध्य प्रदेश में गौ हत्यायो का दौर बदस्तूर जारी है..... ताजा मामला मध्य प्रदेश के विदिशा जिले का सामने आया है जहाँ मद्दू खेडी में देवली के पास बीते दिनों २ गायो की हत्या कर दी गयी... हत्या करने वाले अभी तक पुलिस की पहुच से बाहर है...


जहाँ एक तरफ सूबे के मुख्य मंत्री शिव राज सिंह चौहान मध्य प्रदेश में गौ हत्या कम होने और गौ हत्या पर नए कानून को लाये जाने की बात कर रहे है वही दूसरी ओर उन्ही के राज में कुछ दबंग लोग सरे आम गौ हत्यायो को अंजाम देने में लगे हुए है...

यह सब उस मुखिया के शासन में हो रहा है जो अक्सर बड़े बड़े मंचो से गौ हत्या प्रतिबंधित किये जाने के भाषण दिया करते है... ज्यादा समय नही बीता जब भोपाल के रविन्द्र भवन में आयोजित गौ ग्रास सम्मेलन में प्रदेश भर से आये लोगो को संबोधित करते हुए शिवराज ने कहा था प्रदेश में गौ हत्या करने वालो से सरकार कडाई से निपटेगी.....

लेकिन शिव जी के भाषण भाषणों तक ही सिमट कर रह गए है... अगर ऐसा होता तो देवली में गौ माता की दबंग लोग सरे आम हत्या नही करते.....


स्थानीय गाव वालो की माने तो ये वाकया २ दिन पहले का है जहाँ पर सुबह के ४ बजे कुछ दबंग लोगो ने गौ हत्या को अंजाम दिया..गौ हत्या को अंजाम देने वाले व्यक्ति दुल्ले ओर चन्नू नाम के लोग है जिन्होंने पूरे अपने परिवार को साथ लेकर इस घटना को अंजाम दिया...

चौकाने वाली बात तो ये है कि इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी पुलिस , प्रशासन , स्थानीय जनप्रतिनिधि मौके पर नही पहुचे...स्थानीय विधायक हरी स्प्रे , कुरवाई के उपजिलाधिकारी भी ये सब जानने के बाद भी मौका ऐ वारदात पर नही पहुचे......


इस बारे में पुलिस का रवैया भी सही नही रहा॥ स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि घटना के आरोपियों तक पुलिस नही पहुच पायी है॥ गाव वालो ने ये भी बताया कि इस इलाके में गौ हत्या की ये कोई नयी वारदात नही है...पुलिस ओर प्रशासन के सुस्त रवैये के चलते इलाके में कुछ दबंग लोग खुले आम गौ हत्या का कारोबार करते है...


देवली की इस घटना ने मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार को ये सोचने के लिए विवश कर दिया हैकि उसके मुखिया "शिव" के राज में किस तरह गौ हत्या के कानूनों की धज्जिया उड़ाई जा रही है......

7 टिप्‍पणियां:

hem pandey ने कहा…

मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था अच्छी नहीं कही जा सकती. राजधानी भोपाल में आये दिन लूट की घटनाएं और बेहद घटिया यातायात व्यवस्था इसके उदाहरण हैं. प्रदेश के अधिकाँश जिलों में पेय जल संकट, बिजली संकट आदि यहाँ के कुशासन की ओर इंगित करते हैं.

Lalit Kuchalia ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Lalit Kuchalia ने कहा…

jab shiv ke raj me ye sab ho raha hai to aap is baat se andaza laga sakte hai dusro ke raj me kya hoga. ab shiv ji ko jaildi hi kuch karna chahiye nahi or ghor anarth ho jayega

कविता रावत ने कहा…

Sach mein aaye din ki ghatnao ki dekh lagta hai ki kya yahi shiv ka Raj hai.....
Jahan ek or गौ ko ham maata kahte hain wahin dusari or es tarah ke kuvyawastha ke karan गौ hatyen dekh man behad dukhit hota hai....N jane kab jaagengi aise log......
Jangagrati ingit karti prastuti ke liye aabhar.

anoop joshi ने कहा…

सर यहाँ इंसानों की हत्याएं नहीं रोक पा रही है सर्कार और आप गो माता की बात कर रहे है .....वो कौन रोकेगा

anoop joshi ने कहा…

ji haan sir me uttarakhand se hun

aruna kapoor 'jayaka' ने कहा…

sahi mein madhya-pradsh mein andhergardi hai!...rajnetaen sabhi swarth parast hai!..go hatyaa ke viridh mein bhi kuchh nahi ho raha!